नई दिल्ली: पाकिस्तान में सियासी तूफान आ गया है। पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज के पति को होटल का गेट तोड़कर गिरफ्तार कर लिया गया। मरियम ने ट्वीटर के जरिए कहा, मैं कराची के जिस होटल रूम में रुकी थी, पुलिस ने उसका गेट तोड़ दिया और मेरे पति सफ्दार को गिरफ्तार कर लिया। मैं उस वक्त सो रही थी, जब पुलिस जबरन गेट तोड़कर रूम में घुस गई। मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) की नेता मरियम ने रविवार को सरकार विरोधी रैली में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ तीखा भाषण दिया था। इसके कुछ ही घंटों बाद यह कार्रवाई हुई।
मरियम की कराची की रैली में हजारों की संख्या में लोग जुटे। जहां 11 राजनीतिक दलों के समर्थक मौजूद रहे। ये विपक्षी की साझा रैलियों की दूसरी बड़ी रैली थी। पाकिस्तानी मुस्लिम लीग (N) की नेता मरियम ने इस दौरान इमरान खान पर सीधा हमला बोला, उन्होंने कहा कि इमरान खान नालायक, डरपोक इंसान हैं जो हर बात पर आर्मी की वर्दी के पीछे छिप जाते हैं। जैसे ही इमरान की सरकार जाएगी, वो मनी लॉन्ड्रिंग केस में जेल में होंगे। उल्लेखनीय है कि 11 पार्टियों के इस विपक्ष ने पाकिस्तान की आर्मी पर धांधली का आरोप लगाया था। विपक्ष का कहना है कि इमरान खान को आर्मी ने चुनावों में धांधली कर जिताया है।
नवाज के सिक्योरिटी अफसर रहे हैं पति
47 साल की मरियम ने 2012 में आधिकारिक तौर पर राजनीतिक जीवन की शुरुआत की। राजनीति में आने से पहले वह शरीफ परिवार के फाउंडेशन और समाजसेवा के काम करती थीं। शुरुआत में वो सिर्फ महिलाओं के मसले के मुद्दे पर राजनीतिक कार्यक्रमों में भाषण देती थीं। 2012 में अधिकारिक रूप से पार्टी ज्वाइन करने के बाद उन्होंने अपने पिता नवाज़ शरीफ के चुनावी कैंपेन के जरिए 2013 के चुनाव में नवाज शरीफ की पार्टी को जीत दिलाई। उन्होंने पार्टी की यूथ विंग की कमान संभाली, साथ ही प्रचार प्रसार के जिम्मे को अपने हाथ में रखा। जिसका नतीजा नवाज शरीफ को चुनावी जीत के तौर पर मिला। जुलाई 2018 में, एवेनफील्ड संदर्भ मामले में भ्रष्टाचार के आरोप में उन्हें £ 2 मिलियन जुर्माना के साथ सात साल की जेल की सजा सुनाई गई थी। 19 सितंबर को, इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने उसकी सजा को निलंबित कर दिया।
मरियम कॉलेज के दौरान डॉक्टर बनना चाहती थीं, इसलिए उन्होंने 1980 के दशक के अंत में किंग एडवर्ड मेडिकल कॉलेज में दाखिला लिया। हालांकि, अवैध प्रवेश पर विवाद पैदा होने के बाद, उन्हें अपनी डिग्री पूरी किए बिना कॉलेज छोड़ना पड़ा। 1992 में, उन्होंने 19 साल की उम्र में सफ्दार अवान से शादी की। अवान उस समय पाकिस्तान सेना में कैप्टन के रूप में सेवारत थे और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के बाद के कार्यकाल के दौरान नवाज शरीफ के सुरक्षा अधिकारी थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here