केवल 8 फीसदी भारतीय उत्पादों की ऑनलाइन खरीदारी करते हैं

Business
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •   
  •   
  •  
  •  

नई दिल्ली। भारत का सोशल कॉमर्स सेक्टर जो आज 1.5 से 2 अरब डॉलर का ग्रॉस मर्चेडाइज वैल्यू (जीएमवी) बाजार है, इसके केवल पांच वर्षो में 16 से 20 अरब डॉलर का बाजार बनने की संभावना है। 2030 तक राजस्व में 60 से 70 अरब डॉलर तक की वृद्धि होगी। भारतीय ई-कॉमर्स –सस्ते डेटा, सप्लाई-साइड इनोवेशंस और डिजिटल सेवी ग्राहकों के कारण वित्तीय वर्ष 2020 30 अरब डॉलर का जीएमवी उद्योग बन गया है। इसके अलावा, भारत में वैश्विक स्तर पर दूसरे सबसे ज्यादा 57.2 करोड़ कनेक्टेड यूजर्स हैं। हालांकि, हम ऑनलाइन कॉमर्स के शुरुआती चरणों में हैं, केवल 8 प्रतिशत भारतीय (लगभग 10.5 करोड़) उत्पादों की ऑनलाइन खरीदारी करते हैं, यह अन्य बाजारों की तुलना में बहुत कम है। यह एक नई रिपोर्ट ‘द फ्यूचर ऑफ कॉमर्स इन इंडिया- द राइज ऑफ सोशल कॉमर्स’ के अनुसार है, जिसे आज बैन एंड कंपनी द्वारा सिकोया इंडिया के साथ साझेदारी में जारी किया गया। संक्षेप में, भारत का सोशल कॉमर्स सेक्टर दस वर्षो के भीतर वर्तमान ई-कॉमर्स बाजार के आकार का दो गुना होगा।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •   
  •   
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *