नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच पिछले 5 महीने से सरहद (LAC) पर जारी तनाव को कम करने की कोशिशों के बीच हाल ही दोनों देशों के बीच LAC पर अब और अधिक सैनिक न भेजने पर सहमति बनी है। तकरीबन 14 घंटे तक चली इस मैराथन बैठक के बाद एक साझा बयान जारी किया गया। इस बयान में कहा गया है कि दोनों देश अब पूर्वी लद्दाख में सैनिक भेजना बंद कर देंगे। हालांकि बैठक में अप्रैल से पहले की स्थिति कायम करने पर कोई सहमति नहीं बनी जो भारत की सबसे अहम मांग रही है। साथ ही बयान में कहा गया कि दोनों देशों के कॉर्प्स कमांडरों के बीच जल्द ही 7वें दौर की बातचीत होगी और गतिरोध को सुलझाने के लिए व्यावहारिक कदम उठाने और संयुक्त रूप से सीमा पर शांति सुनिश्चित के लिए कदम उठाए जाएंगे। इस बीच भारत ने चीन से सीमा विवाद के बीच समुद्र में अपनी ताकत दिखा दी है। बुधवार से भारतीय नौसेना और ऑस्ट्रेलियाई नौसेना के बीच पूर्वी भारतीय महासागर क्षेत्र में भारतीय नौसेना रॉयल ऑस्ट्रेलियन नेवी पैसेज एक्सरसाइज (PASSEX) शुरू हुई। इसमें ऑस्ट्रेलिया के एयर वारफेयर विनाशक हमास होबार्ट, भारत के आईएनएस सह्याद्री, मिसाइल कॉर्वेट आईएनएस कार्मुक समुद्री अभ्यास में हिस्सा लिया।
चीन से सीमा विवाद के बीच भारत की यह तीसरी मिलिट्री एक्सरसाइज है। पहली बार अमेरिका के यूएसएस निमित्ज के साथ, दूसरी एक्सरसाइज इस महीने के शुरू में रूसी नौसेना के साथ जब भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मास्को की यात्रा पर थे और तीसरी एक्सरसाइज ऑस्ट्रेलिया के साथ कर भारत ने अपने दुश्मनों को बता दिया है कि उसकी जल, थल और नभ सेना किसी से भी कम नहीं है। कहा गया है कि यह अभ्यास विशेष रूप से समुद्री क्षेत्र में रक्षा सहयोग में व्यापक रणनीतिक साझेदार के रूप में भारत-ऑस्ट्रेलियाई द्विपक्षीय संबंधों की बढ़ती ताकत को दर्शाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here