नई दिल्ली। रूस पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने चीन (China) और पाकिस्तान (Pakistan) पर जोरदार हमला बोला है। राजनाथ सिंह ने मॉस्को (Moscow) में शंघाई सहयोग संगठन (SCO) में हिस्सा लिया। एससीओ बैठक में उन्होंने चीन को इशारों ही इशारों में दो टूक संदेश दिया। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय शांति के लिए आक्रामक तेवर को कम करना होगा। एससीओ क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए अंतरराष्ट्रीय कानूनों के प्रति सम्मान, सहयोग और मतभेदों का शांतिपूर्ण समाधान महत्वपूर्ण है। राजनाथ सिंह ने चीन के साथ-साथ पाकिस्तान को भी आतंकवाद के मुद्दे पर जमकर खरी खोटी सुनाई। राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर कहा कि भारत आतंकवाद के सभी प्रारूपों और इसका समर्थन करने वालों की स्पष्ट तौर पर निंदा करता है। अतिवादी दुष्प्रचार और कट्टरवाद से मुकाबले के लिए एससीओ द्वारा आतंक रोधी तंत्र को अंगीकृत किया जाना एक महत्वपूर्ण फैसला है। उन्होंने कहा कि भारत एससीओ क्षेत्रीय आतंक रोधी ढांचे के कार्यों को महत्व देता है।
इसी प्रकार चीन का नाम लिए बिना राजनाथ ने कहा कि पारंपरिक और गैर पारंपरिक दोनों तरह के खतरों से निपटने के लिए हमें संस्थागत क्षमता की आवश्यकता है। शांतिपूर्ण, स्थिर और सुरक्षित एससीओ क्षेत्र के लिए विश्वास का माहौल, गैर आक्रामकता और एक दूसरे के प्रति संवेदनशीलता महत्वपूर्ण है।
राजनाथ ने ये बयान चीन के रक्षा मंत्री जनरल वेइ फेंगहे की मौजूदगी में दिए। उन्होंने कहा, ‘एससीओ के सदस्य देशों, जहां दुनिया की 40 प्रतिशत से अधिक आबादी रहती है, के शांतिपूर्ण, स्थिर और सुरक्षित क्षेत्र के लिए विश्वास और सहयोग, गैर-आक्रामकता, अंतरराष्ट्रीय नियम-कायदों के लिए सम्मान, एक दूसरे के हितों के प्रति संवेदनशीलता तथा मतभेदों के शांतिपूर्ण समाधान की जरूरत है।
इससे पहले शुक्रवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने रूसी सेना की मुख्य चर्च का दौरा किया, साथ ही म्यूजियम भी पहुंचे। अपनी यात्रा के तीसरे दिन राजनाथ सिंह ने कई अधिकारियों से मुलाकात भी की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here