दलगत राजनीति से परे ऐसा सम्मान समारोह विरला — पी.सी. शर्मा
शिक्षकों की फटकार ने दिया मुझे ऊँचा मुकाम — जीतू पटवारी

इंदौर : पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि युवाओं को बिना स्वार्थ राजनीति में आना चाहिए। आज मुझे क्या मिलेगा नामक एम. के. सिंड्रोम से राजनीति दूषित हो रही है। श्री दिग्विजय सिंह ने आज इंदौर में मल्हार आश्रम के पूर्व शिक्षक श्री सहदेव बाजपेयी के सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि वह पीढ़ी दुर्लभ है जो संस्कारवान युवाओं को तैयार करती थी। उन्होंने श्री सहदेव वाजपेयी के कृतित्व को रेखांकित करते हुए कहा कि वे सैनिक भी रहे और सैनिक से शिक्षक बने। उन्होंने पठानकोट से जम्मू तक सड़क निर्माण के लिए पदयात्रा की। सेना में रहे और वही सैन्य अनुशासन मल्हार आश्रम के विद्यार्थियों में भी लाए। जनसंपर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि आज एक शिक्षक के सम्मान में सभी दलों, वर्गों और बुद्धिजीवियों की उपस्थिति देखकर वे अभिभूत हैं। ऐसा सम्मान समारोह विरले ही देखने को मिलता है।
मल्हार आश्रम के पूर्व छात्र एवं उच्च शिक्षा मंत्री श्री जीतू पटवारी ने गुरुजनों को नमन करते हुए कहा कि श्री सहदेव वाजपेयी जैसे शिक्षकों की फटकार के कारण ही उन्होंने आज यह मुकाम हासिल किया है। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह को पितातुल्य बताते हुए कहा कि उनसे भी उन्हें सदैव सीख मिलती रही है।
पूर्व शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने इस अवसर पर कहा की मल्हार आश्रम में गुरुवर श्री सहदेव और श्री के.पी. दुबे जी जैसे शिक्षकों ने हमें दिशा दी, तभी आज हम ऐसे मुकाम पर खड़े हैं। कार्यक्रम में श्री सहदेव वाजपेयी का अभिनंदन किया गया। श्री सत्यनारायण सत्तन ने इस अवसर पर कहा कि शिक्षक की पूंजी चाक और डस्टर होती है, वे एक बार लिख कर पुन: मिटाते हैं और नया सृजन करते हैं। कार्यक्रम में वरिष्ठ अधिवक्ता श्री आनंद मोहन माथुर, श्रीमती अमृता सिंह श्री महेश जोशी श्री कृपाशंकर शुक्ला, श्रीमती अर्चना जायसवाल, श्री प्रमोद टंडन, श्री विनय बाकलीवाल, श्री अनिल शुक्ला सहित अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।
और भावुक हुए मंत्री श्री जीतू पटवारी
अपने संबोधन के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह ने उच्च शिक्षा मंत्री श्री जीतू पटवारी द्वारा कम उम्र में एक राजनैतिक पहचान बनाने का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि श्री पटवारी ने अपनी मेहनत जनसेवा और लगन से एक अलग पहचान बनायी है। जब श्री दिग्विजय सिंह ऐसा कह रहे थे उस दौरान मंत्री श्री जीतू पटवारी भावुक हो उठे और उनकी आंखें भर आईं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here