UNN@ यह बात हम सभी जानते है कि शुक्रवार का दिन मां लक्ष्मी को समर्पित होता है। इस दिन मां लक्ष्मी के व्रत के लिए बेहद खास माना जाता है। मान्यता है इस दिन वैभवलक्ष्मी का व्रत रखने से धन, वैभव और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। इस व्रत को स्त्री और पुरुष दोनों रख सकते हैं। व्रत की विधि व्रत की शुरुआत करते वक्त 11 या 21 व्रत की मन्नत करें। अगर किसी शुक्रवार आप घर के बाहर हैं तो अगले शुक्रवार व्रत रखें, मतलब इस व्रत का पालन घर पर ही करें। शुक्रवार को दक्षिणावर्ती शंख में जल भरकर भगवान विष्णु का अभिषेक करें। साथ ही पीले कपड़े में पांच लक्ष्मी (पीली) कौड़ी और थोड़ी सी केसर, चांदी के सिक्के के साथ बांधकर धन के स्थान पर रखें। कुछ ही दिनों में इसका असर दिखाई देने लगेगा। इस दिन 3 कुंवारी कन्याओं को घर बुलाकर खीर खिलाएं तथा पीला वस्त्र व दक्षिणा प्रदान करें। इन उपायों को करने से मां लक्ष्मी जल्दी खुश हो जाती हैं।
पूरे दिन व्रत रखने के बाद शाम को स्नान करके देवी लक्ष्मी की पूजा करें। पूजा में सोने या चांदी की एक चीज जरूर रखें। यदि दोनों नहीं हैं तो पैसे रखें और रोली, इत्र, लाल वस्त्र और लाल फूल अर्पित करें। खीर का भोग जरूर लगाएं और नीचे दिए गए मंत्र का जाप करें। यह मंत्र बहुत प्रभावशाली माना जाता है। मान्यता है कि मंत्र का जाप करने से घर में कभी भी धन का अभाव नहीं होता।

इन मंत्रों का जाप करें
ये मंत्र कुछ इस प्रकार है।
या रक्ताम्बुजवासिनी विलसिनी चण्डांशु तेजस्विनीं।
या रक्ता रुधिराम्बरा हरिसखी या श्री मनोल्हादिनी।।
या रत्नाकरमन्थनात्प्रगटितां विष्णोस्वया गेहिनी।
सा मां पातु मनोरमा भगवती लक्ष्मीश्च पद्मावती।।

मंत्र के जाप के बाद वैभवलतक्ष्मी व्रत कथा पढ़ें या सुनें। अंत में प्रसाद ग्रहण करके द्वार पर एक दीपक जरूर जलाएं। इस व्रत में पूजा के बाद माता लक्ष्मी को भोग लगाकर एक बार भोजन ग्रहण कर सकते हैं। देवी लक्ष्मी की उपासना किसी विशेष दिन भी की जा सकती है जैसे, शुक्रवार, नवमी, नवरात्रि या दीपावली यानी, अमावस्या की रात्रि पर विशेष मंत्र से माता लक्ष्मी का ध्यान करने से घर सुख समृद्धि और धन लाभ की प्राप्ति होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here