नई दिल्ली। ब्रिटेन की दिग्गज ट्रैवल कंपनी थॉमस कुक ने रविवार को दिवालिया होने की घोषणा कर दी। 178 साल पुराने थॉमस कुक पर करीब 15 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है। संचालन जारी रखने के लिए 1766 करोड़ रुपए की तत्काल जरूरत थी। कंपनी ने कहा कि तमाम कोशिशों के बावजूद शेयरधारकों और कर्जदाताओं से समझौता नहीं हो पाया, इसलिए दिवालिया की अर्जी दाखिल करने के अलावा उनके पास कोई चारा नहीं था। थॉमस कुक 16 देशों में हर साल 19 करोड़ लोगों को होटल, रिसॉर्ट और एयरलाइन सर्विस मुहैया करवा रही थी। थॉमस कुक के बंद होने से दुनियाभर में 6 लाख पर्यटक फंस गए हैं। इनमें से 1.5 लाख ब्रिटेन के हैं। ब्रिटेन के परिवहन सचिव ग्रांट शेप्स ने बताया कि दर्जनों चार्टर्ड विमान किराए पर लिए गए हैं, ताकि ब्रिटेन के यात्रियों को घर पहुंचाया जा सके। उनसे कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। सरकार का कहना है कि ब्रिटेन के इतिहास में दूसरे विश्व युद्ध के बाद यह यात्रियों की सबसे बड़ी वापसी होगी।
दरअसल, थॉमस कुक ने 1841 में ट्रैवल कंपनी शुरू की थी। तब कंपनी लोगों को ट्रेन के जरिए ब्रिटेन के शहरों में घुमाने की व्यवस्था करती थी। जल्द ही कंपनी ने विदेश यात्रा के लिए इंतजाम करना भी शुरू कर दिया। यह पहला टूर ऑपरेटर है, जो ब्रिटिश सैलानियों को यूरोप में यात्रा मुहैया कराता था। इसके बाद नए ठिकाने कंपनी के खाते में जुड़ते गए। कारोबार बढ़ने लगा और इसने विशाल टूर ऑपरेटर का रूप ले लिया।
संकट में 22,000 नौकरियां
कंपनी के बंद होने से 22,000 लोगों की नौकरियों पर संकट मंडरा रहा है, जिसमें से 9,000 कर्मचारी यूके के हैं।
चीफ एक्जिक्यूटिव ने मांगी माफी
कंपनी के बंद होने से ना सिर्फ कर्मचारी बल्कि ग्राहक, सप्लायर और कंपनी के पार्टनर भी प्रभावित होंगे। इसलिए थॉमस कुक के चीफ एक्जिक्यूटिव पीटर फैंकहॉजर ने ग्राहकों, सप्लायर्स, कर्मचारी और पार्टनर्स से माफी मांगी।
सभी उड़ानें रद्द
मामले में यूके की नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (CAA) ने कहा है कि 23 सितंबर से लेकर छह अक्तूबर तक रेगुलेटर व सरकार 150,000 से अधिक ब्रिटिश ग्राहकों को घर वापस लाने के लिए मिलकर काम करेंगे। सीएए ने ट्वीट कर बताया कि सभी बुकिंग्स रद्द कर दी गई हैं।
इसलिए बंद हुई कंपनी
दुनिया की सबसे पुरानी ट्रैवल कंपनी लंबे समय से फंड की कमी से जूझ रही थी और बैंकों की एक समिति ने अतिरिक्त फंड की उसकी मांग पर फैसले रोक दिया था।
पिछले महीने अगस्त में थॉमस कुक ने रिकैपिटलाइजेशन से जुड़ी योजना को लेकर चीन की शेयरहोल्डर फोसुन के साथ एक सौदे की प्रमुख शर्तों को पर सहमति जताई थी। यह सौता 1.1 अरब डॉलर का था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here