नई दिल्ली: उत्तर से लेकर दक्षिण तक, पूर्व से लेकर पश्चिम तक ऐसी बारिश हो रही है कि कुदरत का गुस्सा सातवें आसमान पर है। आसमान से बरसती बारिश लोगों में खौफ पैदा कर रही है। मैदान से लेकर पहाड़ों पर सैलाब के संकट ने लोगों में दहशत पैदा कर दी है। कहीं लैंडस्लाइड का खतरा, कहीं कारें बह रही, कहीं घरों में पानी तो कहीं बरसाती नाला जानलेवा बन गया है। जिधर देखो बस बारिश की तबाही ही तबाही नजर आ रही है। हिंदुस्तान के 12 से ज्यादा राज्यों में ऐसी आफत आई है कि पानी के सैलाब और तूफान ने सब कुछ बर्बाद कर दिया है।

महाराष्ट्र

महाराष्ट्र के मुंबई, रायगढ़ और पालघर में अगले 24 घंटों के लिए भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। मौसम विभाग ने इसके लिए अलर्ट जारी किया है। बारिश की वजह से मुंबई में हाई टाइड की चेतावनी भी जारी की गई है। मौसम विभाग का मानना है कि अरब सागर में साढ़े चार मीटर ऊंची लहरें उठ सकती हैं। दोपहर करीब ढाई बजे हाई टाइड की आशंका जताई गई है। हाई टाइड की वजह से लोगों को समन्दर से दूर रहने की सलाह दी गई है।

अजमेर

मानसून की शुरुआत के बाद लगातार दूसरे दिन भी अजमेर तरबतर रहा। शनिवार शाम करीब 5 बजे शुरू हुई बारिश ने गर्मी से लोगों को राहत तो दी लेकिन शहर की हालत ऐसी हो गई कि लोग घरों में ही कैद हो गए। विसिन अस्पताल हो या बाजार हो, पेट्रोल पंप हो या स्कूल हो, हर जगह पानी ही पानी था। ऐसा लग रहा था कि गाड़ियां पानी में तैर रही हैं। किसी-किसी इलाके में तो तीन-तीन फीट तक पानी जमा हो गया था, जिसकी वजह से बाइक और सिलेंडर, प्लास्टिक के खिलौने की तरह बहते जा रहे थे।
मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश के रतलाम में जबरदस्त और जोरदार बारिश हो रही है। पिछले दो दिनों से इलाके में हो रही बारिश के बाद सैलाना गांव में बने केदारेश्वर महादेव मंदिर के आंगन में गिरने वाला झरना फूट पड़ा है, जिस झरने को देखने रतलाम में लोग दूर-दूर से आते थे अब उस झरने की हालत ऐसी है कि रतलाम में लोग उस झरने की धार देखकर दहशत में हैं। केदारेश्वर महादेव मंदिर अब एक सैलाब में तब्दील हो चुका है। झरने का पानी गांव में पहुंचने लगा है। पहाड़ियों से घिरे होने की वजह से पूरा इलाका जलमग्न हो गया है।
छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में भी बारिश का कहर देखने को मिला। शनिवार को यहां बाढ़ जैसे हालात थे। यहां एक कार उफनती लहरों में फंस गई और ऐसी फंस गई कि पानी की धार के साथ बहने लग गई। स्थानीय लोगों ने बताया कि कार में दो लोग सवार थे। एक 40 साल का शख्स गाड़ी चला रहा था और 15-20 साल का लड़का बगल की सीट पर बैठा था लेकिन जैसे ही कार लहरों में फंसी वैसे ही स्थानीय लोगों ने उन्हें कार से निकाल लिया।
वलसाड

गुजरात के वलसाड में पिछले 72 घंटे से लगातार बारिश हो रही है। अब हालत ये है कि वलसाड के सभी बांध में पानी का स्तर डेंजर लेवल तक पहुंच गया। वलसाड के कई गांव की हालत तो ऐसी है कि शहर से संपर्क ही टूट गया है। मजबूरी में लोग उस पुलिया को पार करते हैं जिसके ऊपर से नदी बह रही है। प्रशासन ने चेतावनी दी है कि पुलिया को पार ना करें लेकिन जैसे ही जलस्तर घटता है बड़ी बड़ी गाड़ियां भी निकलने लगती है। एक हफ्ते पहले भी यहां 48 घंटे लगातार बारिश हुई है, जिसकी वजह से पूरा शहर कीचढ़ में तब्दील हो गया था, एक बार फिर से वलसाड में वही स्थिति बनती हुई नजर आ रही है।
उत्तराखंड

उत्तराखंड के भागीरथी नदी में शनिवार को अचानक से जलस्तर इतना बढ़ गया कि बीच नदी में एक मछुआरा फंस गया। मछुआरा किसी तरह एक पत्थर पर टिका रहा और उसके बाद शुरु हुआ मछुआरे को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन। दोनों छोरों पर रस्सी बांधकर मछुआरे के पास पहुंचा गया और उसके बाद मछुआरे को किनारे लाया गया। लेकिन, उत्तराखंड में बाढ़ और बारिश का असर हाईवे पर भी नजर आ रहा है।

शनिवार को हल्दवानी में ऐसी बारिश हुई कि पहाड़ा का एक बड़ा हिस्सा टूट कर हाइवे पर आ गया और उसके बाद वहां जाम लग गया। कई घंटों की मशक्कत के बाद हाईवे पर पत्थर हटाया गया। हल्द्वानी की ही तरह उत्तराखंड के चंपावत में भी लैंड स्लाइड होने से कई घंटों तक जाम लगा रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here