नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दशहरा समारोह में भाग लेने के लिए दिल्ली द्वारका सेक्टर-10 में पहुंचे थे। बता दें कि इसके पिछले साल पीएम मोदी ने लाल क़िला मैदान के दशहरा समारोह में शामिल होकर रावण के पुतले का दहन किया था। देशभर में दशहरे को लेकर धूम है, बुराई पर अच्छाई की जीत को लेकर ये दिन भारतीयों के लिए काफी अहम माना जाता है। बुराई के प्रतीक रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतले को भी जलाया जाता है। बता दें कि पीएम मोदी ने द्वारका के DDA ग्राउंड में 107 फीट रावण के पुतले का दहन किया। प्रधानमंत्री के साथ दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी और पश्चिमी दिल्ली के सांसद प्रवेश वर्मा मौजूद रहे। ‘आज विजयादशमी का पर्व है और उसके साथ-साथ हमारी वायुसेना का जन्मदिन भी है। हमारे देश की वायुसेना जिस प्रकार से पराक्रम की नई-नई ऊंचाईयां प्राप्त कर रही है, आइए हम सब हमारी वायुसेना की जांबाज जवानों को याद करें और उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामना दें।
‘इस दिवाली पर हमें सामूहिक कार्यक्रम करके जिन बेटियों ने अपने जीवन में कुछ हासिल किया है, जो बेटियां दूसरों को प्रेरणा दे सकती हैं, उन बेटियों को सम्मानित करना चाहिए, इस दिवाली वही हमारा लक्ष्मी पूजन होना चाहिए।’
‘उत्सव हमें जोड़ते भी हैं और उत्सव हमें मोड़तें भी हैं। उत्सव हममें नई उमंग और उत्साह भी भरते हैं साथ ही नए-नए सपनों को सजने का सामर्थ्य भी देते हैं।’
पीएम मोदी ने जय श्री राम के नारों के साथ अपना संबोधन शुरु करते हुए कहा, ‘भारत उत्सवों की भूमि है, शायद ही 365 में कोई एक दिन बचा होगा जब हिंदुस्तान के किसी न किसी कोने में उत्सव ना मनाया जाता हो। हजारों साल की सांस्कृतिक परम्परा के कारण हमारे देश ने उत्सवों को भी संस्कार का शिक्षा का और सामूहिक जीवन का एक निरंतर प्रशिक्षण करने का काम किया है।
पीएम मोदी मेट्रो से दिल्ली के द्वारका सेक्‍टर-10 पहुंचे और वहां वह पूजा-अर्चना की। इसके बाद पीएम मोदी को रामलीला समिति की तरफ से पगड़ी बांधकर और गदा देकर सम्मानित किया गया। रावण के पुतले का दहन करने से पहले पीएम मोदी ने राम और लक्ष्‍मण की आरती उतारी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here