नयी दिल्ली: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भारत-अमेरिका रणनीतिक संबंधों की दृढ़ता प्रदर्शित करने के लिए रविवार को ह्यूस्टन में प्रवासी भारतीयों के कार्यक्रम ‘हाउडी मोदी’ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ नजर आयेंगे। व्हाइट हाउस की इस घोषणा की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह फैसला लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक विशेष भाव दर्शाया है और यह दोनों देशों के बीच विशेष मित्रता को रेखांकित करता है।
ट्रंप प्रशासन के अंतर्गत भारत अमेरिका संबंधों में नयी घनिष्ठता पर बल देने वाला यह कार्यक्रम हालिया इतिहास में यह पहली बार होगा जब दो सबसे बड़े लोकंतत्रों के नेता दुनिया में कहीं एक संयुक्त रैली को संबोधित करेंगे। पूरे अमेरिका से पचास हजार से अधिक भारतीय अमेरिकियों ने टेक्सास के ह्यूस्टन के विशाल एनआरजी स्टेडियम में 22 सितंबर को होने वाले ‘‘हाउडी, मोदी। साझा सपने, उज्ज्वल भविष्य’’ के लिए पंजीकरण कराया है।

‘‘हाउडी’’‘हाउ डू यू डू’ का संक्षिप्त रूप है। इस शब्द का दक्षिण पश्चिम अमेरिका में आमतौर पर अभिवादन के लिए किया जाता है जिसका अर्थ होता है ‘आप कैसे हैं?’ व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्टेफनी ग्रिशम ने रविवार को एक बयान में कहा, ‘‘यह (मोदी-ट्रम्प की साझा रैली होगी) अमेरिका और भारत के लोगों के बीच दृढ़ संबंधों को मजबूत करने, दुनिया के सबसे पुराने एवं सबसे बड़े लोकतंत्रों के बीच रणनीतिक साझेदारी की पुन: पुष्टि करने और उनकी ऊर्जा तथा व्यापारिक संबंधों को गहरा करने के तरीकों पर चर्चा करने का बेहतरीन मौका होगा।’’
इस घोषणा के कुछ घंटों बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सिलसिलेवार किये ट्वीटों में कहा कि भारतीय मूल के समुदाय के साथ मिलकर कार्यक्रम में ट्रम्प का स्वागत करने का वह इंतजार कर रहे हैं। मोदी ने लिखा, ‘‘राष्ट्रपति ट्रम्प की ओर से दिखाया गया विशेष भाव भारत और अमेरिका के बीच विशेष मित्रता को रेखांकित करता है। दिखाता है कि यह संबंध कितना मजबूत है और अर्थव्यवस्था तथा यह अमेरिकी समाज में भारतीय समुदाय के योगदान को बताता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here