नई दिल्ली। COVID 19 के लिए नैदानिक प्रबंधन प्रोटोकॉल में बदलाव करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने अब ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मध्यम और गंभीर स्थिति वाले कोरोना वायरस मरीजों को मेथिलप्रेडनिसोलोन के विकल्प के रूप में ग्लूकोकोर्टिकोस्टेरॉइड डेक्सामेथासोन के प्रयोग की अनुमति दी गई है।
बता दें कि डेक्सामेथासोन एक स्टीरॉइड है जिससे ऑक्सीजन सपोर्ट वाले कोरोना के मरीजों की मृत्यु दर में काफी कमी आती है। इसको लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक टेड्रोस अधानोम घेब्रेयेसस ने कहा था कि डब्ल्यूएचओ इस बात पर जोर देता है कि केवल कोरोना के गंभीर रोगियों के लिए डेक्सामेथासोन दवा का उपयोग क्लिनिकल पर्यवेक्षण के तहत किया जाना चाहिए।
इस बात का कोई सबूत नहीं कि यह दवा हल्के लक्षण वाले रोगियों के लिए निवारक उपाय के रूप में काम करती है। इससे नुकसान हो सकता है। डेक्सामेथासोन को लेकर ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने एक रिसर्च में इस बात की पुष्टि की है कि ये दवा ऐसे कोरोना मरीज जो नाजुक हालत में पहुंचे हैं उनकी मौत के खतरे को 35 फीसदी तक कम करती है। भारत में भी कोरोना मरीजों पर इस दवा का इस्तेमाल किया जा रहा है। बताया गया कि यह दवा आसानी से बाजारों में उपलब्ध है।
इस बीच देश कोरोना के मामले तेजी के साथ बढ़ते जा रहे हैं, ऐसे में एक राहत की खबर सामने आई है। बता दें कि देश में कोरोना की रिकवरी दर 58 फीसदी से अधिक हो चुकी है, जो कि एक अच्छी ख़बर है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश में अब तक कुल 2,95,881 लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं। देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 10,245 मरीज ठीक हो चुके हैं। देश का रिकवरी रेट 58 फीसदी से अधिक हो चुका है, वहीं देश में कोरोना से मौत का आंकड़ा 15,685 तक पहुंच चुका है। देश में फिलहाल 1,97,387 एक्टिव केस हैं। वहीं देश में कोरोना के कुल मामलों की बात करें तो 5,08,953 मामले सामने आ चुके हैं। पिछले 24 घंटों की बात करें तो देश में कोरोना के एक दिन में सबसे ज्यादा रिकॉर्ड 18,552 मामले सामने आए हैं। बीते 24 घंटों में कोरोना के कारण देश में 384 लोगों की मौत हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here