तेहरान: ईरान ने शनिवार को आखिरकार स्वीकार कल लिया कि उसकी सेना ने मानवीय चूक के चलते ‘अनजाने में’ यूक्रेन के विमान को मार गिराया था। इस घटना में प्लेन में सवार 176 लोगों की मौत हो गई थी। ईरान ने शनिवार सुबह दुर्घटना से जुड़ा अपना ताजा बयान दिया है। गौरतलब है कि यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस का बोइंग 737 विमान तेहरान से उड़ान भरने के कुछ समय बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। ईरान द्वारा इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों को निशाना बनाकर किए गए मिसाइल हमले के कुछ देर बाद यह विमान हादसा हुआ था।

विमान में थे 82 ईरानी, 63 कनाडाई नागरिक

इससे पहले ईरान ने कई दिनों तक विमान को गिराने की बात से इनकार किया, और कहता रहा कि यह दुर्घटना मानवीय चूक के चलते हुए है। हालांकि अमेरिका, यूक्रेन और कनाडा ने कहा था कि उन्हें विश्वास है कि ईरान ने ही विमान को मार गिराया है। कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने कहा था कि शायद ईरान ने यह विमान अनजाने में गिरा दिया है। यह विमान यूक्रेन की राजधानी कीव जा रहा था। बुधवार को दुर्घटनाग्रस्त हुए इस विमान में ईरान के 82, कनाडा के 63, यूक्रेन के 11, स्वीडन के 10, अफगानिस्तान के 4, जर्मनी के 3 और ब्रिटेन के 3 नागरिक सवार थे।

घटना से जुड़े कई वीडियो हुए थे वायरल
ईरान की सेना ने अब यह स्वीकार कर लिया है कि उन्होंने अनजाने में यूक्रेन के यात्री प्लेन को मार गिराया। आपको बता दें कि इससे पहले सोशल मीडिया पर कुछ वीडियो भी वायरल हुए थे जिनमें विमान से कोई चीज टकराती हुई दिख रही थी। कई लोगों ने दावा किया था कि विमान से रूस निर्मित मिसाइल टकराई थी। विमान के मिसाइल से टकराने के बाद उसमें छोटा ब्लास्ट हुआ लेकिन यह तुरंत क्रैश नहीं हुआ। वीडियो में दिख रहा था कि जेट विमान इसके बाद भी थोड़ी देर तक उड़ता रहा। अमेरिकी सैटलाइट्स ने इस प्लेन के क्रैश होने से ठीक पहले कथित तौर पर 2 मिसाइलों की लॉन्चिंग डिटेक्ट की थी।

यूक्रेन ने जताई मिसाइल हमले की संभावना
यूक्रेन की सुरक्षा परिषद के सचिव ओलेकसी दानिलोव ने यूक्रेन के मीडिया को बताया कि दुर्घटना के संबंध में अधिकारियों के पास कई संभावित वजहें हैं जिनमें मिसाइल हमला भी एक है। उन्होंने कहा, ‘मिसाइल से हमला एक संभावित वजह है क्योंकि इंटरनेट पर दुर्घटनास्थल के पास मिसाइल के तत्व होने की जानकारी है।’ हालांकि ओलेकसी दानिलोव ने यह साफ नहीं किया कि इंटरनेट पर उन्होंने कहां यह जानकारी देखी। यूक्रेन के जांच अधिकारी गुरुवार को ईरान पहुंच गए थे।

कनाडा के पीएम ट्रूडो ने कहा था- मिसाइल हमले में गिरा विमान
कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कहा था कि यूक्रेन का विमान ईरान के मिसाइल अटैक के चलते क्रैश हुआ। उन्होंने कहा था कि कई खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी बता रही है कि ईरान की मिसाइल ने ही यूक्रेन के विमान को मार गिराया है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा था कि यह ‘अनजाने में हुई गलती’ मालूम हो रही है। इससे पहले अमेरिका ने भी प्लेन क्रैश में ईरान का हाथ होने की बात कही थी। ट्रंप ने कहा था कि ऐसा लगता है दूसरे पक्ष ने शायद ‘गलती से’ प्लेन मार गिराया। वहीं, ईरान ने इन दावों को खारिज करते हुए कनाडा से खुफिया रिपोर्ट शेयर करने के लिए कहा है।

ट्रंप ने भी कहा था, मैकेनिकल गड़बड़ी से नहीं गिरा विमान
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि प्लेन क्रैश को लेकर उनके मन में कुछ संदेह है। हालांकि उन्होंने इस दुर्घटना के लिए ईरान को सीधे-सीधे जिम्मेदार नहीं ठहराया। ट्रंप ने कहा कि इस विमान हादसे में अमेरिका की कोई भूमिका नहीं है। उन्होंने कहा था कि दूसरे पक्ष (ईरान) से कोई गलती हो गई है। ट्रंप ने उस दावे को भी खारिज कर दिया जिसमें हादसे की वजह मैकेनिकल गड़बड़ी को बताया जा रहा था। उन्होंने कहा कि कुछ लोग इसे मैकेनिकल गड़बड़ी बता रहे हैं लेकिन मुझे व्यक्तिगत तौर पर ऐसा नहीं लगता। आपको बता दें कि दुर्घटना से कुछ घंटे पहले ही ईरान ने इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमले किए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here