नई दिल्ली : नेपाल के केबल टीवी प्रोवाइडर्स ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, देश में भारतीय समाचार चैनलों के सिग्नल बंद हो गए हैं। हालांकि इस संबंध में अब तक कोई ऑफिशियल गवर्नमेंट ऑर्डर नहीं मिले हैं। नेपाल में दूरदर्शन को छोड़ बाकी सभी न्यूज चैनल बैन, सूचना मंत्री ने कहा- ये चैनल हमारे नेताओं के चरित्र पर सवाल उठा रहे
नेपाल में दूरदर्शन को छोड़कर बाकी न्यूज चैनलों को बैन कर दिया गया है। सूचना और प्रसारण मंत्री युबराज खाटीवाडा ने गुरुवार को इसकी सूचना दी। उन्होंने कहा कि ये चैनल हमारे खिलाफ प्रोपोगैंडा फैला रहे हैं और हमारे नेताओं पर सवाल उठा रहे हैं। इस बीच, खबर है कि चीनी राजदूत होउ यांगकी और नेपाल के शीर्ष नेताओं के बीच बैठकों का दौर बढ़ता जा रहा है। चीनी राजदूत ने गुरुवार को पूर्व प्रधानमंत्री और नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के चेयरमैन पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड से मुलाकात की। इससे पहले नेपाली मीडिया के हवाले से पूर्व उप-प्रधानमंत्री और एनसीपी के प्रवक्ता नारायणकाजी श्रेष्ठ ने भारतीय मीडिया को जमकर कोसा। उन्होंने कहा कि नेपाल सरकार और प्रधानमंत्री ओली के खिलाफ भारतीय मीडिया ने दुष्प्रचार की सारी हदें पार कर दी हैं। अब यह बहुत हो रहा है। इसे बंद करना चाहिए।
44 में से 33 सदस्यों ने ओली के इस्तीफे की मांग की थी
पार्टी में चल रहे गतिरोध का हल निकालने के लिए कम्यूनिस्ट पार्टी ने ओली की सरकार के वर्किंग स्टाइल और फेलियर पर चर्चा के लिए स्टैंडिंग कमेटी की बैठक बुलाई थी। बैठक में 44 में से 33 सदस्यों ने ओली के इस्तीफे की मांग की थी, लेकिन ओली कुर्सी नहीं छोड़ने तैयार नहीं हुए। स्टैंडिंग कमेटी के एक मेंबर ने बताया कि स्टैंडिंग कमेटी की बैठक स्थगित होने के बाद अब तक प्रचंड और ओली के बीच 6 बैठकें हो चुकीं है, लेकिन मामले अभी और डेवलपेंट होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here