Indore: किसी भी जनसमुदाय की विशेषता अथवा उसकी समृद्धि का आँकलन उसकी सांस्कृतिक विरासत से ही किया जा सकता हैं और भारत की अनेकता मे एकता का सजीव उदाहरण यह विशेष पर्व दर्शा रहा हैं जहां माँ अम्बे की आराधना में लीन भक्ति मे गरबा करते हर वर्ग समुदाय को देखा जा सकता हैं ।
उक्त विचार रेसकोर्स रोड नवदुर्गा मंडल द्वारा पिछले 45 वर्षों से सतत गरबा महोत्सव “रास उल्लास” का आयोजन मे रखे। भारतीय संस्कृति और परम्परा के निर्बाध प्रयासों की सराहना करते हुए भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के NCF सदस्य डा. भरत शर्मा द्वारा ने प्रशस्ति पत्र देते हुए भविष्य मे भी भारतीय संस्कृति, परम्परा के समवर्धन, संरक्षण व चेतना जाग्रत करने के ऐसे आयोजन करते रहे, ऐसी शुभकामनाएँ प्रेषित की हैं…
उक्त कार्यक्रम में विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष व हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल श्री वी एस कोकजे, समाजसेवी अनिल भंडारी, दिलीप जैन, आयोजक राजेंद्र सुराना, शेखर भंडारी, जयेश शाह व शहर के गणमान्य नागरिक उपस्थित थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here