भोपाल। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार एक बार फिर से मुश्किल में है। जिन किसानों के कर्ज माफ करने का वादा कर उसने चुनाव जीता था वही किसान उसके खिलाफ उठ खड़े हुए हैं। किसानों ने बड़े आंदोलन की प्लानिंग की है। यह आंदोलन आपदा से लेकर कर्जा माफी तक कई मुद्दों पर छेड़ा जाएगा। एमपी में किसान भारतीय किसान संघ के बैनर के तहत मैदान में उतरेंगे। उनका पहला बड़ा विरोध प्रदर्शन भोपाल में रखा जाएगा। इसकी तारीख 15 अक्टूबर तय की गई है। इस विरोध प्रदर्शन की टाइमिंग सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक रखी गई है। इस दौरान धरना प्रदर्शन चलेगा।
इस विरोध के लिए प्रदेश भर के किसान राजधानी भोपाल में जुटेंगे। किसानों की मांग है कि आपदा की सूरत में उन्हें तुरंत राहत दी जाए। बड़ी संख्या में ऐसे किसान हैं जो कि आपदा से प्रभावित हुए हैं, उनको राहत राशि बिना किसी देरी के मुहैया करा दी जाए। इसके साथ ही किसानों के दो लाख तक के कर्ज तुरंत माफ कर दिए जाएं।
मध्यप्रदेश में किसानों का आंदोलन सरकारों के गले की हड्डी बनता रहा है। इससे पहले मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार को भी किसानों की नाराजगी का सामना करना पड़ा था। कमलनाथ सरकार ने किसानों के कर्ज माफ करने का वादा किया था। साथ ही उन्हें कई सुविधाओं का भी वादा किया था। अब यही किसान वादाखिलाफी का आरोप लगा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here