नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को दिल्ली में साझा प्रेस वार्ता की। इस दौरान दोनों नेताओं ने ऐलान किया कि भारत-अमेरिका के बीच 3 बिलियन डॉलर की डिफेंस डील होगी। इसी के साथ भारत और अमेरिका के बीच ट्रेड डील पर बात आगे बढ़ेगी। वहीं, अमेरिकी दूतावास में भारतीय CEO से ट्रंप ने मुलाकात की। डोनाल्ड ट्रंप इसके बाद प्रेस कांफ्रेस करने पहुंचे। ये प्रेस वह अकेले कर रहे है। उन्होंने कहा कि ये यात्रा मेरे और मेरे परिवार के लिए यादगार रहेगी। भारत में हमारे दो दिन बहुत शानदार गुजरे हैं। इस दौरान पीएम मोदी के साथ सकारात्म बातचीत हुई। पत्रकारों से बातचीत के दौरान ट्रंप ने कहा कि भारत एक सचमुच महान देश है। इस वक्त भारत-अमेरिका के रिश्ते सबसे अच्छे हैं। दोनों देशों के द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा हुई है। हमने कई मुद्दों पर विचार किया है। हम भारत के साथ आपसी संबंधों को बढ़ावा देना चाहते हैं। हम पूरे विश्व में शांत चाहते हैं। अफगानिस्तान में शांति लाने की दिशा में काम जारी है। कोई बेगुनाह नहीं मारा जाना चाहिए।Donald Trump ने कहा इस्लामिक आतंकवाद ना फैले इस दिशा में हम प्रयासरत है। सीरिया में जो हुआ उसे पूरे विश्व ने देखा। हम इसे रोकने के दिशा में काम कर रहे हैं। आतंकवाद पर नकेल कसने के लिए हमने कई कदम उठाए हैं। रेडिकल इस्लाम जड़ से खत्म करने का प्रयास जारी है। इसके लिए सभी देशों को मदद के लिए आगे आना चाहिए। इसे लेकर पाकिस्तान पर दबाव बनाने की कोशिश की जा रही है।
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ट्रंप से दिल्ली हिंसा पर भी सवाल पूछा गया। इस पर उन्होंने कहा कि पीएम मोदी से इस मसले पर कोई बात नहीं हुई। ट्रंप ने कहा कि भारत में सबको धार्मिक आजादी है। बाकी देशों के मुकाबले भारत ज्यादा धार्मिक है। धार्मिक आजादी की दिशा में भारत अच्‍छा काम कर रहा है। इस पीएम मोदी से बातचीत भी हुई है।Donald Trump India
उत्तर पूर्वी दिल्ली और सीएए को लेकर हिंसा पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा कि हमने धार्मिक स्वतंत्रता के बारे में बात की थी। पीएम ने कहा कि वह चाहते हैं कि लोगों को धार्मिक स्वतंत्रता मिले। उन्होंने इस पर वास्तव में कड़ी मेहनत की है। मैंने व्यक्तिगत हमलों के बारे में सुना लेकिन मैंने इसकी चर्चा नहीं की। यह भारत पर निर्भर है।
भारत में मुस्लिम समुदाय के साथ भारत की सरकार मिलकर काम कर रही है और यहां इस समय 20 करोड़ मुस्लिम हैं जबकि कुछ समय पहले यहां 14 करोड़ मुस्लिम थे। प्रधानमंत्री मोदी सबकी धार्मिक स्वतंत्रता चाहते हैं और इस दिशा में काम हो रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here