नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में स्थित आईटीबीपी के कैंप में जवानों की आपसी झड़प खूनी संघर्ष ले बैठी। इस संघर्ष में 6 जवानों की मौत हो गई व दो जवान गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं। इस खूनी संघर्ष की शुरुआत पहले नोकझोक से हुई और उसके बाद जवान आपस में ही भिड़ गए।
इस झड़प में जवानों के बीच अंधाधुध गोलियां चलीं जिसमें 6 जवानों की मौके पर मौत हो गई। इसमें दो जवान गंभीर रूप से घायल हुए हैं, जिन्हें उपचार के लिए चॉपर की मदद से राजधानी रायपुर के अस्पताल में लाया जा रहा है। मृत जवानों में दो हवलदार और 4 सिपाही शामिल हैं। यह सभी जवान बाहरी राज्यों के हैं, जो यहां कैंप में तैनात किए गए थे। घटना के कारणों की जांच की जा रही है।

मारे गए जवानों के नाम
घटना में मारे गए जवानों में
1. हेड कॉन्स्टेबल महेंद्र सिंह, निवासी ग्राम संदियार, जिला बिलासपुर हिमाचल प्रदेश
2. हेड कॉन्स्टेबल दलजीत सिंह, निवासी ग्राम जागपुर, जिला लुधियाना, पंजाब
3. कॉन्स्टेबल मसुदुल रहमान, निवासी ग्राम बिलकुमरी, जिला नदिया, पश्चिम बंगाल
4. कॉन्स्टेबल सुरजीत सरकार, निवासी ग्राम नॉर्थ श्रीरामपुर, जिला बर्दवान, पश्चिम बंगाल
5. कॉन्स्टेबल बिश्वरूप महतो, निवासी ग्राम खुरमुरा, जिला पुरुलिया, पश्चिम बंगाल
6. कॉन्स्टेबल बिजेस, निवासी ग्राम इरावाट्टोर, जिला कोझिकोड, केरल शामिल है।

घायल होने वाले जवानों की बात करें तो कॉन्स्टेबल उल्लास, निवासी ग्राम पुलिमठ, जिला तिरुअनंतपुरम, केरल और कॉन्स्टेबल सीता राम दून, निवासी ग्राम नायाबास, जिला नागौर, राजस्थान शामिल हैं।
बता दें कि इस मामले में आईटीबीपी ने जांच के आदेश दिए हैं। बताया जा रहा है कि अंधाधुंध फायरिंग करने वाले आरोपी जवान का नाम मसुदुल रहमान खान है जो पश्चिम बंगाल का रहने वाला था। पुलिस अधिकारी ने बताया कि अभी तक यह जानकारी नहीं मिली है कि रहमान ने खुद को गोली मारी या उसके साथियों ने जवाबी कार्रवाई में उसे मार गिराया। इस घटना में मारे गए जवानों की राइफल की जांच के बाद ही जानकारी मिल सकेगी कि जवानों ने रहमान पर गोली चलाई है या नहीं। इस संबंध में जानकारी ली जा रही है। इससे पहले पुलिस ने आशंका जताई थी कि रहमान जवाबी कार्रवाई में मारा गया है। सुंदरराज ने बताया कि दोनों घायल जवानों को बेहतर इलाज के लिए हेलीकॉप्टर से रायपुर भेजा जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here