नई दिल्ली : यूक्रेन का यात्री विमान क्या ईरान की एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइल का शिकार हो गया था ? इस बात की पुख्ता जानकारी तो किसी को नहीं लेकिन विमान हादसा ठीक उस वक्त हुआ जब तेहरान ने इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमले किए थे। इस हादसे पर संदेह जताया जा रहा है कि विमान को संभवतः धोखे से मार गिराया गया। अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने भी कुछ ऐसा ही संदेह जताया है। उन्होंने कहा कि प्लेन क्रैश को लेकर उनके मन में संदेह है। हालांकि, उन्होंने सीधे-सीधे इसके लिए ईरान को दोषी नहीं ठहराया। अमेरिकी राष्ट्रपति ने साथ में यह भी कहा कि ‘विमान हादसे’ में अमेरिका की कोई भूमिका नहीं है।
इस बीच अमेरिका के अधिकारियों ने गुरुवार को कहा कि इस बात की ‘प्रबल संभावना’ है कि मंगलवार देर रात यूक्रेनी विमान को ईरान की ही ऐंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइल ने मार गिराया हो। मंगलवार को ही ईरान ने इराक में अमेरिकी सेना के ठिकानों पर बैलिस्टिक मिसाइलों से हमला किया था। विमान हादसा ईरानी मिसाइल हमलों के कुछ ही घंटों बाद हुआ था। तेहरान ने ये हमले अपने जनरल कासिम सुलेमानी की बगदाद में अमेरिकी ड्रोन अटैक में मारे जाने के बाद किए थे।
ईरान ने विमान हादसे के बाद ब्लैक बॉक्स को यूक्रेन को सौंपने से इनकार किया था। हालांकि, अब यूक्रेन के राष्ट्रपति ने दावा किया है कि ईरान ने उन्हें जांच में पूरा सहयोग का भरोसा दिया है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमीर जेलेन्स्की ने गुरुवार को ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी से फोन पर बातचीत की। यूक्रेनी राष्ट्रपति की वेबसाइट पर बताया गया है कि रूहानी ने उन्हें आश्वस्त किया है कि वह यूक्रेन के एक्सपर्ट ग्रुप को सभी जरूरी डेटा तक पहुंच उपलब्ध कराएंगे। जिस समय यह हादास हुआ उस वक्त विमान में 176 यात्री थे। क्रू समेत विमान के सभी यात्रियों की मृत्यु हो गयी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here