नई दिल्ली। गलवान में हुई हिंसक झड़प और भारतीय सेना से मार खाए चीन को यह भय पैदा हो गया है कि भारत की ओर से अब न केवल गलवान बल्कि पूरे अक्साई चिन को हासिल करने के सैन्य प्रयास हो सकते हैं। इन्हीं सारी चिंताओं से ग्रस्त चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने बुद्धवार को भारतीय विदेश मंत्री एस. जय शंकर को फोन किया। वांग यी ने भारतीय विदेश मंत्री से आग्रह किया कि सीमा विवाद और अन्य विवादों को परस्पर बातचीत के जरिए हल कर सकते हैं। भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने वांग यी से चीनी सेना को नियंत्रण में रखने को कहा है।
गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों पर धोखे से हमला करने के बाद चीन आगे का रास्ता बातचीत के जरिए निकालने का आग्रह कर रहा है। आज दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की हुई बातचीत में चीन ने बातचीत के मौजूदा तंत्रों के इस्तेमाल पर जोर दिया और कहा कि मतभेदों को बातचीत के जरिए ही हल करना चाहिए। पूर्वी लद्दाख के पैट्रोलिंग पॉइंट- 14 पर हुए खूनी झड़प के दो दिन बाद विदेश मंत्री एस. जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच बातचीत हुई। इस बातचीत में वांग ने इस बात पर जोर दिया कि मतभेदों से उबरने के लिए दोनों पक्षों को मौजूदा तंत्रों के जरिए बातचीत और समन्वय का रास्ता और दुरुस्त करना चाहिए। इस बातचीत में दोनों पक्षों ने खूनी संघर्ष से पैदा हुई गंभीर परिस्थिति से पार पाने के लिए मिलट्री कमांडरों के बीच हुई बातचीत में बनी सहमति के मुताबिक आगे का रास्ता तय करने पर हामी भरी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here